यूपी के स्कूलों के वॉशरूम के बाहर लगेंगे सीसीटीवी कैमरे, गुड़गांव की घटना के बाद डीजीपी ने जारी की गाइडलाइंस

लखनऊः यूपी में स्कूलों के वॉशरूम के बाहर सीसीटीवी कैमरे लगेंगे। हर महीने स्थानीय पुलिस इन कैमरों की जांच करेंगे। बंद या खराब पाए जाने पर स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। गुड़गांव में रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 वर्षीय प्रद्युम्न की वॉशरूम में निर्मम हत्या के बाद डीजीपी सुलखान सिंह ने यूपी में स्कूलों के लिए गाइडलाइंस जारी की है।

क्या है गाइडलाइंस में

-डीजीपी कार्यालय की ओर से जारी गाइड लाइंस में बताया गया कि सभी स्कूलों के वॉश रूम के गेट पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इनकी बराबर मॉनीटरिंग होगी। स्कूल में एक कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। 
-क्षेत्र के थाने से पुलिस अधिकारी बराबर इन सीसीटीवी कैमरों की जांच करेंगे। अगर ये कैमरे बंद या खराब पाए गए तो स्कूल को नोटिस जारी किया जाएगा। अगर इस पर भी व्यवस्था नहीं की गई तो संबंधित स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 
-जारी गाइडलाइंस में बताया गया कि इलाके के पुलिस अधिकारी सभी स्कूलों के मैनेजर और प्रिंसिपल से लगातार समन्वय बनाए रखेंगे। स्कूल में कार्य करने वाले सभी कर्मचारियों का पुलिस वैरिफिकेशन होगा। ड्राइवर और कंडक्टरों को स्कूल की ओर से परिचय पत्र जारी किया जाएगा।
-स्कूल बस, वैन के ड्राइवर और कंडक्टरों के स्वास्थ्य का औचक निरीक्षण किया जाएगा ताकि ये पता लगाया जा सके कि कही वे शराब तो नहीं पीते है। 
-गाइडलाइंस में स्कूलों की चारदीवारी को ऊंचा करने और कंटीले तार लगाने के लिए भी कहा गया है। साथ ही प्रवेश, निकास गेट पर पंजीकृत एजेंसी के गार्ड की तैनाती की जाने की सलाह दी गई है।
स्कूल के गार्डरूम में आने-जाने वालों का विजिटर रिकॉर्ड रखा जाए।

क्या है गाइडलाइंस में

-डीजीपी कार्यालय की ओर से जारी गाइड लाइंस में बताया गया कि सभी स्कूलों के वॉश रूम के गेट पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। इनकी बराबर मॉनीटरिंग होगी। स्कूल में एक कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। 
-क्षेत्र के थाने से पुलिस अधिकारी बराबर इन सीसीटीवी कैमरों की जांच करेंगे। अगर ये कैमरे बंद या खराब पाए गए तो स्कूल को नोटिस जारी किया जाएगा। अगर इस पर भी व्यवस्था नहीं की गई तो संबंधित स्कूल के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 
-जारी गाइडलाइंस में बताया गया कि इलाके के पुलिस अधिकारी सभी स्कूलों के मैनेजर और प्रिंसिपल से लगातार समन्वय बनाए रखेंगे। स्कूल में कार्य करने वाले सभी कर्मचारियों का पुलिस वैरिफिकेशन होगा। ड्राइवर और कंडक्टरों को स्कूल की ओर से परिचय पत्र जारी किया जाएगा।
-स्कूल बस, वैन के ड्राइवर और कंडक्टरों के स्वास्थ्य का औचक निरीक्षण किया जाएगा ताकि ये पता लगाया जा सके कि कही वे शराब तो नहीं पीते है। 
-गाइडलाइंस में स्कूलों की चारदीवारी को ऊंचा करने और कंटीले तार लगाने के लिए भी कहा गया है। साथ ही प्रवेश, निकास गेट पर पंजीकृत एजेंसी के गार्ड की तैनाती की जाने की सलाह दी गई है।
स्कूल के गार्डरूम में आने-जाने वालों का विजिटर रिकॉर्ड रखा जाए।